शुगर में पनीर खाना चाहिए या नहीं?

शुगर में पनीर खाना चाहिए या नहीं
Spread the love

क्या आपने लोगों को पनीर खाने की सलाह दी है?

प्रोटीन के सबसे पसंदीदा शाकाहारी स्रोतों में से एक पनीर है। भले ही पनीर को डायबिटीज से ग्रसित लोगों के लिए एक स्वस्थ भोजन का पर्याय माना जाता है, पर हमें इसके पोषक तत्वों पर भी गौर करना चाहिए।

जी हाॅं, पनीर बेचने वाले कई ब्राण्ड में भरपूर फैट होते हैं। मलाई पनीर में मौजूद हाई-फैट इसे डायबिटीज से ग्रसित लोगों के लिए एक गलत विकल्प बनाते हैं। 

तो दूसरी ओर, घर में बना पनीर और बाजार में उपलब्ध कम फैट वाला पनीर डायबिटीज से ग्रसित लोगों के लिए एक बेहतरीन पर्याय है। हाॅंलाकि प्रोटीन और कैल्शियम से भरपूर पनीर डायबिटीज से ग्रसित उन लोगों के लिए एक बेहतर पर्याय है जो लैक्टोज बर्दाश्त नहीं कर पाते, उन्हें पनीर से दूर रहना चाहिए।

Diabetes Hindi Cta

शुगर में पनीर खाना चाहिए या नहीं?

भारतीय चीज का ही एक रूप है पनीर और लगभग हर भारतीय के घर में आमतौर पर पाया जाने वाला पदार्थ है। खासकर पनीर में मौजूद सभी स्वादों को शामिल करने की क्षमता के कारण प्रोटीन से भरपूर पनीर का तो हर कोई लुफ्त उठाता है। 

जबकि कम फैट वाला पनीर या घर का बना पनीर डायबिटीज से ग्रसित लोगों के लिए बेहतर है लेकिन मलाई पनीर नहीं। जी हाॅं, आपने बिल्कुल सही सुना है कि आपके मनपसंद मलाई पनीर फैट से भरपूर होता है। हाई-फैट के कारण मलाई पनीर बिल्कुल सही विकल्प नहीं है। 

आप अगर अपना मनपसंद मलाई पनीर खाना चाहते हैं तो कृपया इसका अधिक सेवन न करें। मलाई पनीर के ज्यादा सेवन से वजन बढ़ सकता है जिससे लंबे समय में ब्लड शुगर लेवल बढ़ सकता है। 

साथ ही पनीर में लैक्टोज की मात्रा ब्लड शुगर लेवल को बढ़ा सकती है इसलिए डायबिटीज से ग्रसित लोगों को पनीर कम खाना चाहिए। साथ ही जो लोग लैक्टोज बर्दाश्त नहीं कर सकते उन्हें पनीर से दूर रहना चाहिए। 

पनीर का न्यूट्रिएंट वैल्यू क्या है?

100 ग्राम मलाई पनीर का न्यूट्रिएंट वैल्यू है: 

पनीर का न्यूट्रिएंट वैल्यू

जबकि पनीर में फैट की मात्रा इसमें अतिरिक्त मलाई के आधार पर अलग-अलग हो सकती है। 

पनीर का ग्लाइसेमिक इंडेक्स क्या है?

पनीर का ग्लाइसेमिक इंडेक्स 30 है।

पनीर का ग्लाइसेमिक इंडेक्स

पनीर एक प्रकार का पनीर है जो उत्तर भारतीय व्यंजनों में इस्तेमाल किया जाता है। पनीर एक डेयरी प्रोडक्ट है और इसमें कार्बोहाइड्रेट की मात्रा बिल्कुल न के बराबर होती है साथ ही इसका ग्लाइसेमिक इंडेक्स (GI) मान कम होता है। 

डायबिटीज से ग्रसित लोगों के लिए कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाला भोजन चुनना जरूरी है। ग्लाइसेमिक इंडेक्स से पता चलता है कि कार्बोहाइड्रेट से भरपूर भोजन करने के बाद ब्लड शुगर लेवल को कितनी तेजी से बढ़ाता है। 

जबकि गौर करने वाली बात है कि अगर पनीर का सेवन किसी ऐसे पदार्थ के हिस्से के रूप में किया जाता है जिसमें कार्बोहाइड्रेट होते हैं, जैसे कि करी या बिरयानी, तो पदार्थ का ग्लाइसेमिक इंडेक्स उसमें मौजूद अन्य चीजों से प्रभावित होगा। 

पोषक तत्वों और कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स को निश्चित करने के लिए पनीर को गलत तरीके से न पकाऍं जैसे कि इसे डीप फ्राई करना या काजू या ताजा क्रीम की करी में मिलाना। 

डायबिटीज में पनीर के क्या फायदे हैं?

दूध से बना एक पदार्थ पनीर है जिसके कई संभावित स्वास्थ्य लाभ हैं, जिनमें शामिल हैं: 

1) प्रोटीन का बेहतर स्रोत

पनीर प्रोटीन का बेहतर स्रोत है। प्रोटीन की ज्यादा जरूरत होती है क्योंकि वे शरीर में टिशू निर्माण और मरम्मत करने में मदद करते हैं। साथ ही, प्रोटीन लंबे समय तक समाधान महसूस कराने में मदद करते हैं। 

2) कैल्शियम से भरपूर

पनीर कैल्शियम से भरपूर है। कैल्शियम दाॅंतों और हड्डियों को स्वस्थ बनाए रखने के साथ-साथ मांसपेशियों और नर्व को काम करने के लिए जरूरी होता है। 

3) वजन नियंत्रण में मददगार

कम फैट वाले पनीर में कार्बोहाइड्रेट कम होता है और प्रोटीन से भरपूर होने के कारण वजन नियंत्रित करने में आपकी मदद कर सकता है। 

डायबिटीज से ग्रसित लोगों को बैलेंस और स्वस्थ डाएट बनाए रखने की जरूरत होती है, जिसमें अलग-अलग प्रकार के पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थ शामिल होने चाहिए। आपको अगर डायबिटीज है और आप पनीर खाना चाहते हैं तो।

भोजन को बैलेंस करने में मदद करने के लिए पोर्शन का आकार छोटा रखने और इसे अन्य कम कार्बोहाइड्रेट, गैर- स्टार्ची सब्जियों या होल ग्रेन्स के साथ खाने की सलाह दी जाती है।

टाइप 2 डायबिटीज के लिए क्या पनीर बेहतर है?

अपने लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स के कारण पनीर डायबिटीज के लिए एक स्वस्थ भोजन विकल्प है। कम कार्बोहाइड्रेट के कारण पनीर खाने से शुगर लेवल नहीं बढ़ता इसलिए डाइबिटीज के लिए पनीर एक स्वास्थ पर्याय माना जाता है।  

हाल ही में हुए स्टडी के अनुसार, यह पाया गया है कि पनीर खाने से टाइप 2 डायबिटीज होने कि संभावना कम हो सकती है।  इसके अलावा प्रोटीन से भरपूर पनीर ब्लड शुगर लेवल को बनाए रखने में मदद करता है। ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करके आप नर्व स्वास्थ को निश्चित कर सकते हैं।  

अपने डाएट में पनीर को शामिल करना एक बेहतर पर्याय है। आमतौर पर भारत के दक्षिणी और पश्चिमी इलाके में लोग पनीर को बेहद पसंद करते हैं, जबकि आप इसे अपने पारंपरिक ढंग से पोरियाल या करी की तरह पका सकते हैं।

डायबिटीज से ग्रसित लोग रोजाना कितनी मात्रा में पनीर लेना चाहिए?

डायबिटीज के लिए पनीर के खाने पर नजर रखना जरूरी है। आमतौर पर डायबिटीज से ग्रसित व्यक्ति एक दिन में लगभग 100 ग्राम पनीर का सेवन कर सकता है। कार्बोहाइड्रेट देरी से रीलिज होने के कारण पनीर डायबिटीज से ग्रसित लोगों के लिए बेहतरीन विकल्प बन जाता है क्योंकि इससे ब्लड शुगर लेवल में धीरे-धीरे बढ़ोतरी होती है। जबकि,हमेशा हफ्ते में दो या तीन बार पनीर खाने की सलाह दी जाती है। 

सलाद या ग्रिल्ड पनीर के रूप में उसे खाना, पनीर के उन पदार्थों को चुनने से ज्यादा बेहतर और हेल्दी है जो या तो डीप फ्राई किए हुए होते हैं या उनमें कार्बोहाइड्रेट या फैट से भरपूर ग्रेवी होती है। 

आप तो बिल्कुल जानते ही होंगे कि पनीर को ज्यादा खाने से वजन बढ़ सकता है। 

FitterTake

पनीर प्रोटीन के सबसे बेहतरीन शाकाहारी स्रोतों में से एक है। कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स होने के कारण पनीर भोजन कि एक बेहतर पर्याय है। जबकि, पनीर बनाते समय आपको यह निश्चित करना चाहिए कि आप इसे भुर्जी, सलाद या ग्रिल्ड पनीर की तरह स्वस्थ तरीके से पकाऍं। डीप फ्राई करने से पनीर के पोषण तत्व नष्ट हो सकते हैं। 

हाॅंलाकि पनीर एक स्वस्थ भोजन का पर्याय है, फिर भी आपको डाइटिशियन से सलाह लेनी चाहिए जो आपके लिए एक बेहतर डाएट प्लान तैयार करने के बारे में आपको गाइडेंस कर सके। एक बेहतर डायबिटीज-फ्रेंडली डाएट आपके ब्लड शुगर लेवल को प्रभावी ढंग से नियंत्रित करने में आपकी मदद कर सकता है। अपने ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करने के लिए डाएट के अलावा एक्सरसाइज, गहरी नींद और स्ट्रेस को कम करना बहुत जरूरी है। 

अपने ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करना कभी-कभी बहुत चुनौतीपूर्ण हो सकता है। आप अगर अपने ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करने के लिए जूझ रहे हैं तो कोई फिकर न करें।

हमारे विश्वसनीय और साइंटिफिक तरीके से तैयार हुए डायबिटीज प्राइम प्रोग्राम आपकी मदद कर सकता है।

फिटरफ्लाई के कुछ बेहतरीन डाइटिशियन और एक्सपर्ट हैं जो व्यक्तिगत डाएट प्लान में आपकी मदद करने के लिए तैयार हैं। 08069450746 पर मिस्ड कॉल देकर हमारे प्रोग्राम एडवाइजर से बात करें और हम निश्चित रूप से आपसे संपर्क करेंगे।

- By Fitterfly Health-Team
आनंद सिंह | उम्र 56
Fitterfly की मदद से इनकी Diabetes की दवाइयां आधी हो गई !
आप भी कर सकते हैं.
HbA1c : 7% 4.8%
Weight loss : 75 kg 69 kg
Fitterfly Diabetes Prime Program
की जानकारी चाहिए?
Required
Invalid number
Invalid Email Id
*डायबिटीज रिवर्सल का
क्लीनिकल शब्द डायबिटीज रेमिशन है।