शुगर में चुकंदर खाना चाहिए कि नहीं?

शुगर में चुकंदर खाना चाहिए कि नहीं
Spread the love

चुकंदर हमेशा सुपरफूड नाम से जाता है क्योंकि इससे कई स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं। आपको या आपके मित्र-परिवार में से किसी को अगर डायबिटीज है, तो चकुंदर को अपने रोजाना डाएट में शामिल करने से पहले अपने स्वास्थ्य पर इसके सभी प्रभावों को समझना बेहद जरूरी है।

आपके भ्रम का यहाँ तुरंत समाधान है: कुछ लोगों का मानना है कि चुकंदर आयरन से भरपूर है। दरअसल चकुंदर में बहुत ही कम आयरन होता है।चुकंदरका आकर्षक लाल/बैंगनी रंग इसमें मौजूद रंगद्रव्य के कारण होता है, आयरन के कारण नहीं। 

चलिए आपके मन में उठे “शुगर में चुकंदर खाना चाहिए कि नहीं?” इस प्रश्न का उत्तर ढूँढ़ते हैं। साथ ही चुकंदर सेवन के स्वास्थ्य लाभों का पता लगाएँ और आपके डायबिटीज नियंत्रण में कैसे मदद कर सकता है इसका पता लगाएँ। 

Diabetes Hindi Cta

क्या डायबिटीज में चुकंदर खा सकते हैं?

इस सवाल का जवाब है “हाँ”। डायबिटीज से ग्रसित लोग अपने डाएट में चुकंदर शामिल कर सकते हैं पर सीमित मात्रा में। पोर्शन साइज पर गौर करें और चुकंदर के रस से तो दूर ही रहें। 

एक जानदार निर्णय लेने के लिए आइए चुकंदर की पोषण संबंधी जानकारी का पता लगाएँ। क्या चुकंदर डायबिटीज नियंत्रण के लिए उपयुक्त है इसके बारे में अधिक जानने के लिए स्क्रॉल करते रहें।

चुकंदर का ग्लाइसेमिक इंडेक्स (GI)

चुकंदरका ग्लाइसेमिक इंडेक्स (GI)

चुकंदर का मीडियम ग्लाइसेमिक इंडेक्स (GI) स्कोर 61 है। ग्लाइसेमिक इंडेक्स से पता चलता है कि एक भोजन के बाद ब्लड शुगर लेवल को कितना प्रभावित कर सकता है।

चुकंदर का ग्लाइसेमिक लोड सिर्फ 5 है जो काफी कम है। इसका मतलब है कि चुकंदर के मध्यम के बावजूद, उनसे ब्लड शुगर में जबरदस्त बढ़ोतरी होने की गुंजाइश नहीं है क्योंकि उनमें कार्बोहाइड्रेट कम रहते हैं। 

डायबिटीज के लिए चुकंदर का पोषण मूल्य 

चुकंदर पोषक तत्वों का खजाना है और अलग-अलग पोषक तत्वों से भरपूर भरपूर हैं जैसे कि:

डायबिटीज के लिए चुकंदर का पोषण मूल्य

IFCT 2017 के अनुसार 

1. विटामिन B9

  • विटामिन B9 को फोलिक एसिड के नाम से भी जाना जाता है।
  • आपके शरीर के सेल्स के मूल कामकाज के लिए फोलेट बहुत महत्वपूर्ण होता है, लाल और सफेद ब्लड सेल्स का गठन करता है और कार्बोहाइड्रेट को एनर्जी में तब्दील करता है। 

2. चुकंदर एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर 

  • चुकंदर की खास कर जड़ें और पत्तियाँ एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर है, जो सेल्स को होने वाले किसी भी नुकसान से लड़ने में आपकी मदद करती हैं। 
  • डायबिटीज से ग्रसित लोगों को हमेशा ह्रदय रोग का खतरा रहता है। आप अगर चुकंदर का सेवन करते हैं तो एंटी-ऑक्सीडेंट आपको ह्रदय रोग और कैंसर होने के खतरे को कम करने में मदद कर सकते सकते हैं।

डायबिटीज से ग्रसित लोगों के लिए चुकंदर खाने के फायदे|

डायबिटीज से ग्रसित लोगों के लिए बीट खाने के फायदे (chukandar khane ke fayde) बताए गए हैं:

1. नाइट्रेट से भरपूर

चुकंदर में नाइट्रेट भरपूर होता है जो आपका पाचन तंत्र नाइट्रिक ऑक्साइड में बदल देता है। नाइट्रिक ऑक्साइड ब्लड वेसल्स को आराम देता है उन्हें चौड़ा करता है इस वजह से ब्लड प्रेशर कम हो जाता है। 

2. एंटी-ऑक्सीडेंट गतिविधि को बढ़ावा देता है

  • एंटीऑक्सिडेंट न केवल ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करते हैं, बल्कि हानिकारक फ्री रेडिकल्स और शरीर की उन्हें बेअसर करने की क्षमता के बीच असंतुलन को भी कम करते हैं। यह फ्री रेडिकल्स की कुल संख्या को भी कम करता है।
  • यह विशेष रूप से डायबिटीज से ग्रसित लोगों के लिए फायदेमंद है, क्योंकि इससे डायबिटीज से संबंधित जटिलताओं के जोखिम को कम किया जा सकता है।

3. इंसुलिन सेंसेविटी में सुधार हो सकता है

  • कुछ स्टडी में पाया गया है कि चुकंदर खाने से इंसुलिन सेंसेविटी में सुधार करने और इंसुलिन रेजिस्टेंस के किसी भी खतरे को कम करने में मदद मिल सकती है।
  • इंसुलिन रेजिस्टेंस को कम करने कि बात जब आती है तब चुकंदर में पाए जाने वाले भरपूर नाइट्रेट एक महत्वपूर्ण बात हो सकती है।
  • जो लोग मोटापे से ग्रसित हैं, अधिक वजन वाले हैं या वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं उनके लिए चुकंदर खाना बहुत फायदेमंद है क्योंकि यह इंसुलिनरेजिस्टेंस को कम करने में मदद कर सकता है और वजन घटने के सफर को अधिक आसान बना सकता है। चुकंदर का सेवन रोजाना किया जा सकता है, हररोज 2-3 स्लाइस से अधिक नहीं खा सकते और इसे सलाद में मिलाकर खाना सबसे बेहतर है।

चुकंदर में शुगर की मात्रा प्रति 100 ग्राम 

  • प्रति 100 ग्राम चुकंदर में लगभग 6 -7  ग्राम चीनी होती है। चुकंदर डाइटरी फाइबर, विटामिन और मिनिरल्स से भरपूर है। 
  • चुकंदर में नैचुरल शुगर ज्यादातर ग्लूकोज और फ्रुक्टोज के रूप में रहती है। भले ही चुकंदर एक पौष्टिक सब्जी है, डायबिटीज से ग्रसित लोगों अपने कार्बोहाइड्रेट नियंत्रण में इस चीनी पर विचार करना बेहद जरूरी है।

चुकंदर से क्या ब्लड शुगर बढ़ सकता है? 

  • चुकंदर में नैचुरल शुगर होती है और इससे ब्लड शुगर लेवल बढ़ सकता है, जबकि इसमें मौजूद हाई फाइबर इस प्रभाव को कम करने में मदद कर सकता है। डायबिटीज से ग्रसित लोगों के लिए के लिए ब्लड शुगर पर अलग-अलग असर हो सकता है, इसलिए चुकंदर खाने के बाद ग्लूकोज लेवल की निगरानी करना जरूरी है। 
  • चुकंदर का सेवन सीमित मात्रा में करना चाहिए और कार्बोहाइड्रेट को रोजाना भोजन का हिस्सा मानते हुए (उबला सलाद / स्लाइस आदि में कच्चा खाया जाना चाहिए ) खाया जाना चाहिए। चुकंदर का ग्लाइसेमिक इंडेक्स मॉडरेट है, पर कार्बोहाइड्रेट वाले किसी भी भोजन की तरह, वे ब्लड शुगर लेवल को प्रभावित कर सकते हैं। 

एक माध्यम आकर के चुकंदर में कितनी कैलोरी होती है?

100 ग्राम उबले हुए चुकंदर में लगभग 35 किलो कैलोरी होती है। हांलाकि, डाएट प्लान में चुकंदर सिर्फ 2-3 स्लाइस खाने की सिफारिश की जाती है। 

डायबिटीज से ग्रसित लोग चुकंदर का सेवन कैसे करें ? 

चुकंदर का इस्तेमाल कर के कुछ बेहद लजीज स्वास्थ्यवर्धक और आसान व्यंजन बताए गए हैं जो न केवल डायबिटीज से ग्रसित लोगों के लिए हैं बल्कि संपूर्ण परिवार के लिए भी लाजवाब हैं:

1. चुकंदर हुम्मस

चुकंदर हुम्मस

इसके लिए आपको चाहिए 

  • चने या छोले – उबालकर छाने हुए 
  • उबला हुआ चुकंदर 
  • ताजी बारीक कटी हुई लहसून की कलियाँ 
  • ताजा पिसा हुआ जीरा पाउडर या होल जीरा (अधिकतर हल्का भुना हुआ )
  • काली मिर्च पाउडर 
  • दही 
  •  बारीक कटा हुआ पुदीना
  • ताजा नींबू का रस 
  • मिर्च के टुकड़े (आवश्यकता नुसार )
  • नमक स्वादानुसार 
  • एक बड़ा-सा कटोरा और काँटा चम्मच 

विधि 

  • चुकंदर, आधे चने और अन्य सभी पदार्थ (बारीक कटा हुआ पुदीना छोड़कर ) एक ब्लेंडर में डालें। मिश्रण को गाढ़ा बनाएँ और एक कटोरे में निकालें।
  • एक अलग से कटोरे में बचे हुए चने को काँटा चम्मच से मोटा-मोटा काट लें। टैक्सचरके लिए कुछ मिश्रित हुम्मस में मिलाएँ। 
  • कटी हुई सब्जियों या रोटी /चपाती /फुल्के के साथ परोसें। 

2. चुकंदर तिल पराठा 

चुकंदर तिल पराठा

इसके लिए आपको चाहिए 

  • उबला और कसा हुआ चुकंदर 
  • होल व्हीट आटा
  • हल्दी पाउडर 
  • तिल के दाने 
  • तेल (अगर आप चुकंदर की रोटी बना रहे हैं तो आपको तेल की जरूरत नहीं है।)
  • धनिया पाउडर 
  • हींग पाउडर 
  • मिर्च पाउडर या ताजी कटी हरी मिर्च (आवश्यकता नुसार)
  • आमचूर पाउडर 
  • नमक स्वादानुसार 
  • पानी 

विधि 

  • सभी सामग्रियों को एक कटोरे में मिलाएँ और एक नरम आटा तैयार करें ताकि रोटियाँ बेलना आसान हो। 
  • आटे को छोटी-छोटी लोइयाँ बना लें और रोटी या पराठा बेल लें। 
  • तवे पर थोड़ा-सा तेल छिड़कें (अगर आप सिर्फ रोटी बनाना चाहते हैं तो तेल न डालें) और इसे गर्म होने दें। 
  • बेली हुई रोटी को गर्म तवे पर रखें और दोनों तरफ से सुनहरा होने तक सकें। 

3. पालक और चुकंदर सलाद 

पालक और चुकंदर सलाद 

इसके लिए आपको चाहिए 

  • बारीक कटा हुआ चुकंदर 
  • आपकी पसंद का कोई भी सरसों का सलाद ड्रेसिंग (कम नमक)
  • सेब का सिरका 
  • बेबी पालक -धोया और हल्का उबला हुआ 
  • अतिरिक्त वर्जिन ऑलिव ऑइल
  • ताजा कुटी हुई काली मिर्च 
  • चिकन या सब्जी शोरबा (अगर आप स्टोर से खरीद रहे हैं तो कम सोडियम वाला देखें)
  • उबली हुई हरी फलियाँ (उबालने के लिए, उबलते पानी में डालें और दो मिनट तक पकनें दें;आंच से उतारें, छान लें और अलग से रखें)
  • बारीक कटा हुआ प्याज 
  • अगर चाहें तो अतिरिक्त सब्जियाँ
  • भुना हुआ या उबला हुआ चुकंदर (कटे हुए चुकंदर के अलावा)
  • स्वादानुसार नमक

विधि – चुकंदर के चिकने पेस्ट के लिए

  • एक ब्लेंडर में चुकंदर, विनेगर, थोड़ा शोरबा मिलाएँ और एक चिकना पेस्ट बनाने के लिए ब्लेंड करें। 
  • अब बचा हुआ शोरबा और ऑलिव ऑइल मिलाएँ और फिर से ब्लेंड करें। 
  • स्वादानुसार नमक और काली मिर्च डालकर जायकेदार बनाएँ। 
  • ताजा चुकंदर स्मूदी का चखने के लिए तैयार है !

विधि – सलाद और ड्रेसिंग के लिए

  • एक मिश्रण कटोरे में पालक, प्याज और हरी फलियाँ डालें। 
  • बाकी सभी सब्जियाँ डालें और अच्छी तरह मिलाएँ। 
  • आपके द्वारा पहले बनाई गई सलाद ड्रेसिंग डालें। 
  • नमक और काली मिर्च डालकर एक कटोरे में रखें। यह सलाद ड्रेसिंग अलग से रखें। 
  • स्वाद चखने के लिए तैयार।

डायबिटीज से ग्रसित लोगों के लिए चुकंदर का जूस कैसे बनाते हैं?

आमतौर पर जूस (फल और सब्जियाँ) को बैलेंस डाएट के हिस्से के रूप में देखा नहीं जाता। इसलिए डायबिटीज से ग्रसित लोगों के लिए हम चुकंदर का जूस की सिफारिश नहीं करते।

चुकंदर किसे नहीं खाना चाहिए?

अगर आप को किसी भी प्रकार की एलर्जी है, खास कर त्वचा की एलर्जी से परेशान हैं तो चुकंदर को अपने रोजाना डाएट में शामिल करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें। एलर्जी के कई गंभीर मामलों में त्वचा पर गहरे रैशआ सकते हैं। 

चुकंदर में ऑक्सालेट होता है, जो कैल्शियम ऑक्सालेट से बने किडनी स्टोन से ग्रसित लोगों के लिए एक बेचैनी का विषय हो सकता है। उन्हें इन खास पदार्थों को कम खाना चाहिए। 

मैं प्रति दिन कितना चुकंदर खा सकता हूँ?

आपको इस बात को जांचना चाहिए कि चुकंदर आपके ब्लड शुगर को कैसे प्रभावित करता है और उसके आधार पर आपको अपने डाइटिशन या डायबिटोलॉजिस्ट से बात करनी चाहिए कि चुकंदर को अपने डाएट मेंकैसे शामिल किया जाए।

डायबिटीज में चुकंदर खाने से होने वाली समस्या? 

भले ही चुकंदर पौष्टिक हों, उनमें मौजूद नैचुरल शुगर और कार्बोहाइड्रेट ब्लड शुगर लेवल को बढ़ा सकते हैं।अधिक सेवन से ब्लड शुगर में बढ़ोतरी हो सकती है खास कर तब अगर बाकी डाएट को उसके अनुसार तय नहीं किया गया।

FitterTake

आप अगर सोच रहे हैं कि क्या चुकंदर डायबिटीज के लिए सही है, तो इसका जवाब हाँ है परंतु सीमित मात्रा में सेवन कर सकते हैं। चुकंदर से जबकि कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं इनमेंमौजूद नैचुरल शुगर ब्लड शुगर लेवल को प्रभावित कर सकती है। 

अपने ग्लूकोज लेवल की निगरानी करना और उन्हें अपने डाएट में होशियारी से शामिल करने के लिए अपनी हेल्थ केयर टीम या डाइटिशन से सलाह लेना जरूरी है। यहीं से फिटरफ्लाई की शुरुआत होती है। 

 फिटरफ्लाई में न्यूट्रिशनिस्ट, फिजियोथेरपिस्ट और सायकोलॉजिस्ट सहित विशेषज्ञों की हमारी टीम व्यक्तिगत गाइडेंस के द्वारा आपकी भलाई के लिए हमेशा तैयार है। हम सही डाएट और एक्सरसाइज प्लान, एक-एक बातचीत सेशन और आपकी जीवनशैली, स्वास्थ्य और मेडिकल हिस्ट्री को गहराई से परखते हैं। 

हमारे फिटरफ्लाई डायबिटीज प्राइम प्रोग्राम की जांच करें, आप जिस हल की तलाश कर रहे हैं, वे यही हो सकते हैं। आपके स्वास्थ्य लक्ष्यों को पाने में हम आपकी मदद के लिए तैयार हैं। अधिक जानने के लिए हमसे बात करें या बस हमें 08069450746 पर एक मिस्ड कॉल दें, और हम संपर्क करेंगे।

FAQ - Frequently Asked Questions

गाजर और चुकंदर डायबिटीज के लिए सही हैं?

आमतौर पर आपके बैलेंस डाएट के हिस्से के रूप में जूस की सिफारिश नहीं की जाती, जिसमें चुकंदर/गाजरकाजूस भी शामिल हैं।

गेस्टेशनल डायबिटीज में चुकंदर ठीक रहता है?

गेस्टेशनल डायबिटीज के लिए चुकंदर को डाएट में शामिल किया जा सकता है, पर टाइप 1 और टाइप 2 डायबिटीज की तरह इसे कम खाना चाहिए और आपके ब्लड शुगर लेवल पर इसके असर का पता लगाने के लिए चुकंदर के सेवन के बाद ब्लड शुगर की जांच करें। फिर जांच के अनुसार सेवन करें।

उबला हुआ चुकंदर डायबिटीज के लिए बेहतर है क्या?

उबला हुआ चुकंदर उन तरीकों में से है जिसे आप खा सकते हैं पर यह आपके ब्लड शुगर लेवल को कैसे प्रभावित करता है इसे जानने के लिए चुकंदर खाने के बाद अपने ब्लड शुगर लेवल की जांच करें।

क्या चुकंदर शुगर लेवल कम कर सकता है?

इसका कोई ठोस सबूत नहीं है कि चुकंदर ब्लड शुगर लेवल को कम कर सकता है। इसके हाई न्यूट्रिएंट बैलेंस डाएट का हिस्सा हो सकते हैं पर ये ब्लड शुगर को कम नहीं करेंगे।

डायबिटीज से ग्रसित लोग क्या चुकंदर का अचार खा सकते हैं?

अचार वाले चुकंदर में अक्सर ज्यादा शुगर और सोडियम होता है। डायबिटीज से ग्रसित लोगों को इससे बचाना चाहिए या घरेलू अचार का चयन करना चाहिए।

डायबिटीज के लिए कौन-सा जूस बेहतर है?

किसी भी प्रकार जूस चाहे, सब्जी हो या फल प्री- डायबिटीज/ डायबिटीज से ग्रसित लोगों के लिए जूस पीना बिलकुल मना है।

चुकंदर से किसे दूर रहना चाहिए?

चुकंदर के हाई ऑक्सलेट होने के कारण किडनी स्टोन से ग्रसित लोगों को इससे दूर रहना चाहिए। डाएट में कोई भी बदलाव या कई भी परेशानी हो तो डायबिटीज सेग्रसित लोगों को व्यक्तिगत सलाह के लिए हेल्थ केयर प्रोफेशनल्स से राय लेना सबसे बेहतर होता है।

- By Fitterfly Health-Team
धर्मेंद्र तिवारी | उम्र 58
सिर्फ 3 महीनों में
Diabetes REVERSE* किया !
आप भी कर सकते हैं.
HbA1c : 8.8% 5.7%
Weight loss : 90 kg 80 kg
Fitterfly Diabetes Prime Program
की जानकारी चाहिए?
Required
Invalid number
Invalid Email Id
*डायबिटीज रिवर्सल का
क्लीनिकल शब्द डायबिटीज रेमिशन है।